Israel Palestine Conflict: इजराइल के बच्चे भारतीय सैनिको की कहानियाँ क्यों पढ़ते है? हर साल याद किये जाते भारतीय सैनिक, जानकर गर्व होगा

0
Israel Palestine Conflict

Israel Palestine Conflict: इजराइल की किताबो में आज भी, भारतीय सैनिको को किस्से क्यों पढ़ाये जाते है? इजराइल हर साल इन सैनिको की याद में आज भी क्यों मनाता ख़ास दिन? क्या आप इसका जवाब जानते है, अगर नहीं तो, पूरा मामला जानकर आप भी अपने भारतीय होने पर गर्व महसूस करेंगे। इजराइल हाल में, अपने “वजूद की जंग” (Israel Palestine Conflict) लड़ रहा है।

Israel Palestine Conflict

इजराइल और भारत का साथ

भारत हर पल इजराइल के साथ खड़ा नज़र आ रहा है। ‘Israel Palestine Conflict’ इजराइल से भारत का रिश्ता आज का नहीं बल्कि वर्षो पुराना है। इजराइल को बचाने के लिए भारतीय वीर सैनिको ने जो किया, बहुत काम लोगो को पता होगा।

इजराइल की किताबो में भारतीय सेना का इतिहास

 

इजराइल की किताबो में आज भी भारत के सैनिको के किस्से पढ़ाये जाते है। साल में एक दिन, ख़ास उत्सव मनाया जाता है और भारतीय सैनिको को वह की सरकार याद करती है, उन्हें नमन करती है। Quora प्लेटफार्म पर पूछा गया कि, क्या सच में ऐसा है ? भारतीय सैनिको की कहानियाँ, वहां बच्चो को क्यों बताई जाती है, तो आइये, इस लेख में जाने, पूरा मामला Israel Palestine Conflict जिससे आप गर्व से भर उठेंगे।

ये भी पढ़े :  NCERT की किताबो में इंडिया को “भारत” करने पर जोर, देखे पूरी खबर

भारतीय सेना ने की इन देशो से लड़ाई

यह बात प्रथम विश्व युद्ध के समय की है, जब उत्तरी इजराइल के तटीय शहर ‘हाइफा’ पर ऑटोमन साम्राज्य, ऑस्ट्रिया-हंगरी और जर्मनी के संयुक्त सेना का कब्ज़ा था। इनके कब्जे से शहर को आज़ाद करवाने के लिए भारतीय सेना आगे आये और ब्रिटिश हुकूमत की और से लड़ते हुए 44 भारतीय सैनिकों ने अपने जीवन का बलिदान कर दिया। इतिहास में यह युद्ध कैवलरी यानि, घुड़सवार सेना की आखरी सबसे बड़ी लड़ाई की मिसाल, के तौर पर देखा जाता है। भारतीय सेना न सिफ भाले, तलवारो और घोड़ो के सहारे तुर्की-जर्मनी की मशीन गन से लेस्स सेना को धूल चटा दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *